29.8.13

रूपया गिर रहा है!

एक दिन बेचैन आत्मा सुबह-सुबह साइकिल से कहीं जा रहा था। रास्ते में चाय की दुकान के पास ढेर सारी मोटर साइकिलें खड़ी थीं। वहाँ बैठी कुछ चिंतित आत्माओं ने उसे देखा और अचरज से पूछा- यह आज 'मोटर साइकिल' छोड़ कर 'साइकिल' से क्यों जा रहे हो ?” बेचैन आत्मा ने पलट कर पूछा-तुम लोग यहाँ बैठकर क्या कर रहे हो ?” चिंतित आत्माओं ने कहा- डॉलर के मुकाबले रूपया रोज गिर रहा है। हम लोग देश की चिंता कर रहे हैं। बेचैन आत्मा ने हँसकर कहा- तुम लोग चिंता करो मैं गिरे रूपए को उठाने जा रहा हूँ।

ऐ सुनो! जियादा विद्वान मत बनो। तुम्हारे साइकिल चलाने से रूपया नहीं उठ जायेगा। बेचैन आत्मा ने कहा-सही कह रहे हो। मेरे अकेले साइकिल चलाने से रूपया नहीं उठेगा। तुम सब लोग साथ दो तो रूपया उठ सकता है।

चिंतित आत्माओं ने हट्टाहास किया—हा हा हा..बढ़िया है। शायद तुमको नहीं पता। रूपया गहरे गढ्ढे में गिर गया है। हमारे आठ दस लोगों के साइकिल चलाने से भी नहीं उठेगा।

बेचैन आत्मा ने समझाया- जरा सोचो! जब मुझे साइकिल चलाता देखकर तुम आठ दस लोग साइकिल चला सकते हो तो तुम सबको देखकर कितने लोग साइकिल चलाने लगेंगे ! सप्ताह में एक दिन भी यदि पूरे देशवासी पेट्रोल बचाने का संकल्प लें तो कितना पेट्रोल बचेगा! चिंतित आत्माएँ फिर बैठकर चिंता करने लगीं। बेचैन आत्मा उनकी बेचैनी बढ़ा कर चलता बना।

मैने कहीं पड़ा था- एक जंगली खरगोश हमेशा डरा रहता था। वह थोडे से आवाज या हलचल पर डरता और कूदता था। एक बार एक बड़ी पत्ती के गिरने की ध्वनि से उसे मौत जैसा डर हुआ। एक शरारती लोमड़ी चीखती है- आकाश गिर रहा है, भागो।’ लोमड़ी के मज़ाक को गरीब खरगोश सच समझकर जंगल में आतंक पैदा करता है और अन्य जानवरों को भी डराता है। सभी जानवर बेतहाशा भागने लगते हैं।

जब-जब पढ़ता हूँ रुपया गिर रहा है तो मुझे शरारती लोमड़ी और खरगोश की कथा याद आती है। कुछ समझ नहीं पा रहा हूँ। क्या जंगल राज आ गया है ? सोने की चिड़िया भी डरने लगी! अमेरिका और उसका डॉलर। ऊह! अभी कल तक उनकी कॉलर भी ढीली थी। संभले की नहीं संभले ?

मोटर साइकिल पर भागे जा रहे हैं और चीख रहे हैं रूपया गिर रहा है! कार से चल रहे हैं और फेसबुक अपडेट कर रहे हैं-रूपया गिर रहा है! साइकिल पर चलिए और पसीना पोछ कर देखिये...आपकी फालतू चर्बी घट जायेगी और रूपया अपने आप संभल जायेगा। रोज नहीं, सप्ताह में एक दिन तो साइकिल चला ही सकते हैं। पूरे देशवासी सप्ताह में एक दिन पेट्रोल बचाने का संकल्प लें तो रूपया अपने आप संभल जायेगा। सब सरकार ही थोड़े न करेगी, कुछ तो हमे भी करना होगा।

सरकार को भी चाहिए कि वे यातायात के ऐसे साधन विकसित करें जो घरेलू संसाधनो से चल सकते हों। इक्का, ताँगा, रिक्शा इन सब वाहनो को प्रोत्साहित करना चाहिए। इन साधनों में ऑटो के मुकाबले भले दो रूपये अधिक देने पड़ें लेकिन यह शुद्ध रूप से श्रम के बदले चुकाई जाने वाली कीमत है। ये दो रूपये डॉलर को हतोत्साहित और रूपया को मजबूत करेंगे। अब तो बैटरी वाले रिक्शे भी आ गये हैं। दूसरे भी और साधन होंगे जिनका मुझे ज्ञान नहीं।  माता-पिता को चाहिए कि आर्थिक रूप से वे चाहे जितने संपन्न हों बच्चों को तब तक मोटर साइकिल, कार न दिलायें जब तक वे खुद स्वावलंबी न हो जांय। 8-10 किमी का सफर बच्चे आसानी से साइकिल से तय कर सकते हैं। चार-पाँच किमी तो हम भी साइकिल चला सकते हैं। पेट्रोल के विदेशी आयात पर जितनी निर्भरता घटेगी रूपया उतना ही मजबूत होता जायेगा।

आपका क्या खयाल है ? तो चल रहे हैं कल से साइकिल पर ? मैं तो चला....

                                                                ……………………………………..
दैनिक भाष्कर 6 सितंबर में  इसकी चर्चा है।

21.8.13

बादलों के रंग

अगस्त का महीना है। आजकल मौसम आदमी की जिंदगी की तरह तेजी से रंग बदलता है। कभी तेज धूप तो कभी जोरदार बारिश। यकबयक चलती है तेज पुरवाई और झरने लगते हैं कंदब से पीले पत्ते, पके फल। सागवान भी जोर-जोर सर हिलाता है। उसके पत्ते भी झरते हैं मगर उतने नहीं जितने कदंब के। बिचारा 'सागवान'! इसे क्या पता कि काटने के लिए लगाया है मालिक ने। वैसे ही जैसे पाली जाती हैं भेड़, बकरियाँ। मालिक इंतजार कर रहा है, कब मोटी होगी इसकी साख? देखता है रोज हसरत भरी निगाहों से..थोड़ी मोटी तो हो चुकी है मगर दो चार साल और प्रतीक्षा की जाये तो कुछ और मोटी हो जायेगी। अच्छे पैसे मिलेंगे तब इसके। कोई किसी को प्रेम से नहीं पालता। पालने से पहले देखता है फ़ायदा। गाय पालता है दूध के लालच में। बहलाता है मन को...गाय हमारी माता है। यह अलग बात है कि माँ दूध सिर्फ अपने बच्चे के लिए देती है। कोई माँ दूसरे के बच्चों को लिए दूध नहीं देती। आप उसकी भूख का फायदा उठाकर छीन लो यह अलग बात है। सभी भूख का फायदा उठाते हैं। भूखा भी पेट भरने के बाद कपड़े और मकान की चिंता करता है। कपड़े मकान के बाद कुछ और..यह चक्र चलता रहता है। 

लेकिन मैं इस भूख और लालच की बात करने के मूड में कत्तई नहीं था। माफ करना थोड़ा बहक गया। मैं तो इस अगस्त के गिरगिटिया मौसम की बात कर रहा था। दिन ढल रहा था। झूमती डालियों को देख इच्छा हुई, देखी जाय बादलों की आवाजाही। छत पर चढ़ा तो देखा पश्चिम में खुली है बादलों की एक खिड़की। झांक रही है तेज धूप। नज़र मिलाने का साहस नहीं हुआ। धूप अधिक प्यासी लग रही थी। मैंने झट से खुद को छांव में कर लिया। जब कोई अधिक प्यासा हो तो यथासंभव सामने से हट जाना चाहिए या ओढ़ लेनी चाहिए छतरी। प्यासे का क्या ठिकाना..पानी के साथ चूस ले खून भी। 

खड़ा-खड़ा देखता रहा पूरब दिशा से आते काले बादलों के घेरे को। ये बादल बड़ी तेजी से बदलते हैं रूप। अभी जो भले मानुस सा हंस रहा था देखते ही देखते राक्षस बन ठहाके लगाने लगा! कभी कुछ तो कभी कुछ। कभी चालाक नेता, कभी उदास जनता, कभी आदमी, कभी जानवर तो कभी पागल प्रेमी। कभी लगता कालिदास की नायिका का दूत है। .भागा जा रहा है प्रेमी का संदेशा ले। न इसे अपने खुल रहे कपड़ों का ध्यान है न बिखरे बालों का। यह दूत है या पागल प्रेमी! ऐसे भी दोड़ते हैं किसी विरहनी के चक्कर में? लगता है उसका मूक आशिक है। संदेशा पहुँचा-पहुँचा के तृप्त होता है।

प्रेम के अनोखे रंग दिखते हैं इन बादलों में। कभी लगता है दो प्रेमी भागे जा रहे हैं किसी बड़ी गुफा में। कभी लगता है कोई बादल किसी बदली को पास बुला रहा है। बदली भी पास आने के लिए मचल रही है। दोनो पास आते जा रहे हैं। धीरे-धीरे मिल जाते हैं एक दूसरे से। अब आप नहीं पहचान सकते कि दोनो पहले कैसे थे! एक नये बादल का रूप सामने आता है। अब वह लड़ रहा है तेज धूप से। वाह! प्रेमी हों तो ऐसे हों। मिलें तो खुद की खुदी, खुद ही मिटा दें। पुनर्जन्म हो। नहीं, मैं कोई नया दर्शन नहीं समझा रहा। अर्ध नारीश्वर, शिव शक्ति का दर्शन पुराना है। मैं तो बस बादलों को देख उस दर्शन को थोड़ा महसूस कर पा रहा हूँ। पढ़ने से अधिक अच्छा है, थोड़ा सा महसूस करना। 

लद्द से एक पका कदंब गिरा छत पर। टांय-टांय-टांय तीन तोते कांय-कांय करते उड़कर आये और कलाबाजी खाते हुए छुपकर बैठ गये सागवान के पत्तों के पीछे। मेरा बादलों से ध्यान भंग हुआ। तोतों को ढूँढने लगा। ये सामने आकर क्यों नहीं बैठते मैं देख लुँगा तो नज़र लग जायेगी क्या तेरी तोती पर ?कैमरा साधे, कभी इधर कभी उधर ताकता रहा। कहीं नहीं दिखे। हारकर कैमरा बंद किया तो फिर टांय-टांय-टांय करते उड़ चले, आम की फुनगियों के पीछे। जा! भाड़ में जा। नहीं खींचता तेरी तस्वीर। तू जमाने को मुँह दिखाने लायक ही नहीं है। टांय-टांय-टांय... लो, फिर आया! मेरी बात सुन ली क्या इसने!!! वो दूर ऊँची फुनगी पर बैठा है। थोड़ा और पास आता तो खींच पाता अच्छी तस्वीर। चलो इसी से काम चलाता हूँ। टांय-टांय-टांय..जा! उड़ जा। वैसे भी आदमियों की दुनियाँ बहुत मतलबी है। तुझे किसी की नज़र न लगे..मस्त रह। 

देखते ही देखते कसता ही चला गया काले बादलों का घेरा। ढल गया सूरज। धूप अपनी प्यास बुझाने धरती के किसी दूसरे कोने में झांक रही होगी। होने लगी बारिश। चलता हूँ..फिर आऊँगा रात में। जब काले बादलों को देख एहसास होगा बिखरी जुल्फों का और हँस रहा होगा पूनम का चाँद।

..............................................

16.8.13

चलो यार आँखें लड़ाते रहें।


चलो रात भर गुनगुनाते रहें

सुनें कुछ कभी कुछ सुनाते रहें।


कहीं ज़ख्म होने लगें जो हरे

वहीं मीत मरहम लगाते रहें।


नहीं सीप बनकर जुड़ीं उँगलियाँ

न पलकों से मोती गिराते रहें।


बहुत दर्द सहते रहे, थे जुदा

चलो प्रेम दीपक जलाते रहें।


अमावस कभी तो कभी पूर्णिमा

सितारे सदा मुस्कुराते रहें।


जले लाख दुनियाँ, कुढ़े प्यार से

जमाने को ठेंगा दिखाते रहें।


हमारी यही चाँदनी रात है

अमावस भले वे बताते रहें।


नहीं हम अकेले ही 'बेचैन' हैं

चलो यार आँखें लड़ाते रहें।

...............................

15.8.13

आजादी का पर्व

जैसे होली के रंगों में, मस्ती से तुम गाते हो,
जैसे ईद मनाते हो औ. सबको गले लगाते हो,
जैसे क्रिसमस के पेड़ों से भेंट अनोखे पाते हो,
जैसे विजया दशमी का तुम हर्षित पर्व मनाते हो,
जैसे दीवाली में घर को दीपों से सजाते हो,
वैसे ही क्या आजादी का उत्सव भी मनाते हो ?

कौन झूमता है मस्ती से अपने घर आंगन में?
क्या उत्सव होते हैं कभी किसी देवालय में?
खाली फ़र्ज समझकर तुमने राष्ट्र ध्वज फहराया है
राष्ट्रीय पर्व को केवल सरकारी पर्व बनाया है
धन्य-धन्य हे भारत माँ के अमर शहीद जवानो
तुमने ही बस देश का सोया अभिमान जगाया है।

आओ! आजादी के दिन कुछ ऐसा माहौल बनाएं हम
सब पर्वों की खुशियाँ चुनकर अपना देश सजाएं हम
प्रातः लगे होली-सी, दिनभर खुशियाँ ईद सरीखी हों
शाम को क्रिसमस, रात रौशनी, दीवाली सी तीखी हो
बड़े चाव से, बड़ी खुशी से, आजादी का पर्व मनाएं 
इस पावन पंद्रह अगस्त को सबसे उत्तम पर्व बनाएं।

..............................

फील गुड

का 'इनरासन' भयल फील गुड ?

का पिसान, का चावल मालिक
दुन्नो नौ दू ग्यारह!
साठ रूपैय्या प्याज बिकत हौ
आलू साढ़े बारह!

इहाँ बैड-बैड हौ मालिक, नाहीँ कउनो गुड !
का 'इनरासन' भयल फील गुड ?

रोज-रोज कs रोना सुनिके 
कनवां पाक गइल !
कल पनरह अगस्त हौ जरको 
खुशिये ना भइल !

का फोकट में मिली मजूरी? तब तs वेरी गुड !
का 'इनरासन' भयल फील गुड ?

महिनन से मेहरारू बीमार हs
लइकी के पिलिया
लइका क फीस ना जुटल
कइली सब किरिया

दू जून क रोटी भारी, मिले न धेली-गुड़!
का 'इनरासन' भयल फील गुड?

का पनरह अगस्त के तोता
आजादी पा जाई ?
का चोट्टन के टिकस ना मिली
सब जेल चल जाई ?

ढेर दिल्लगी नाहीं होला, कब्बो वेरी गुड !
का 'इनरासन' भयल फील गुड?

8.8.13

घर की आँखें


देर शाम
जब हो रही थी तेज बारिश
लौट रहे थे घर
बाइक से
चिंता थी
भीग न जाये मोबाइल,
जेब में रखे जरूरी काग़जात
या फिर
नोट

ढूँढकर पॉलिथीन
रख लिये थे
सब समेटकर
डिक्की में।

चिंता थी
घर को भी
किस हाल में होगा
मेरा रखवाला!

बज रही थी
फोन की घंटी
बढ़ रही थी चिंता घर की
उठा क्यों नहीं रहे मोबाइल?
रिंग तो जा रही है पूरी!
सुबह जब निकले थे
तो कितने बिमार से लग रहे थे
कहीं कुछ....

भीगते हुए
जब पहुँचा था घर
तो मुझसे अधिक
भीगी हुई थीं
घर की आँखें।

जब कभी
नाराज होता हूँ
घर से
लगता है
बिला वज़ह
काटने को दौड़ता है यह !
फिर ठहरता हूँ
याद आती हैं
मेरी चिंता में
बार-बार भीगती
घर की आँखें।
.................

5.8.13

तुलसी और ऑफिस टाइम



नदी है
तो आती है बाढ़
कभी कुछ नहीं होता
कभी डूब जाता है
सब कुछ।

सलामत रहे
तुलसी
खिलता रहे
ऑफिस टाइम
तो समझो
चकाचक चल रही है
गृहस्थी।

........